Gita Press, Gorakhpur

90.00

 

Information
Book code581
Pages
Author
LanguageHindi

गीता-रामानुजभाष्य (कोड 581) पुस्तकाकार-यह श्रीसम्प्रदायप्रवर्तक जगद्गुरु श्रीरामानुजाचार्यद्वारा की गयी विशिष्टाद्वैत सिद्धान्तकी पुष्टिमें गीताकी अद्भुत व्याख्या है, जिसका अनुकरण भक्ति-पक्षके लगभग सभी आचार्योद्वारा किया गया है। आचार्यश्रीके इस भाष्यमें प्रचलित अद्वैतवादका श्रुति-स्मृतियोंके प्रमाणसहित सुन्दर युक्तियोंद्वारा खण्डन, भगवद्|आराधनापूर्वक कर्मकी आवश्यकतापर बल, आत्मबोधहेतु सतत प्रयास इत्यादि विषयोंपर विशद विवेचन है। सचित्र, सजिल्द। मूल्य ८०

Share This

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.