Gita Press, Gorakhpur

2,450.00

 

Information
Book code0086
Pages
Author
LanguageHindi

गीताप्रेससे प्रकाशित रामायणकी बृहत् टीकाएँ –

मानस-पीयूष [सात खण्डोंमें ] (कोड 86 ) ग्रन्थाकार-महात्मा श्रीअञ्जनीनन्दनशरणजीके द्वारा सम्पादित ‘मानस-पीयूष’ श्रीरामचरितमानसकी सबसे बृहत् टीका है। यह महान् ग्रन्थ ख्यातिलब्ध रामायणियों, उत्कृष्ट विचारकों, तपोनिष्ठ महात्माओं एवं आधुनिक मानसविज्ञोंकी व्याख्याओंका एक साथ अनपम संग्रह है। आजतकके समस्त टीकाकारोंके इतने विशद तथा सुसंगत भावोंका ऐसा संग्रह अत्यन्त दुर्लभ है। भक्तोंके लिये तो यह एकमात्र विश्रामस्थान तथा संसार-सागरसे पार होनेके लिये सुन्दर सेतु है। विभिन्न दृष्टियोंसे यह ग्रन्थ विश्वके समस्त जिज्ञासुओं, भक्तों, विद्वानों तथा सर्वसामान्यके लिये असीम ज्ञानका भण्डार एवं संग्रह और स्वाध्यायका विषय है। ऑफसेटकी सुन्दर छपाई, मजबूत जिल्द तथा आकर्षक लेमिनेटेड आवरणमें उपलब्ध। मूल्य २४५० । मानस-पीयूषके अलग-अलग खण्डोंका विवरण

कोड                       खण्ड                        विवरण                                                                                           मूल्य 

87              मानस-पीयूष (बालकाण्ड-खण्ड-१) बालकाण्डके                                                                                                                                                            प्रारम्भसे दोहा ४३ तक।                                       ३५०

88              (बालकाण्ड-खण्ड-२) बालकाण्ड दोहा                                                                                                                                                                            ४४ से दोहा १८८ तक।                                       ३५०

89               मानस-पीयूष (बालकाण्ड-खण्ड-३) बालकाण्ड दोहा                                                                                                                                                            १८९ से बालकाण्ड-समाप्तितक।                        ३५०

90              मानस-पीयूष (अयोध्याकाण्ड-खण्ड-४) सम्पूर्ण                                                                                                                                                           अयोध्याकाण्डकी विस्तृत व्याख्या।                        ३५०

91            मानस-पीयूष (अरण्य, किष्किन्धाकाण्ड-खण्ड-५) दोनों                                                                                                                                            काण्डोंकी विस्तृत व्याख्या एक जिल्दमें।                       ३५०

92                मानस-पीयूष (सुन्दरकाण्ड, लंकाकाण्ड-खण्ड-६) दोनों                                                                                                                                           काण्डोंकी विस्तृत व्याख्या एक जिल्दमें।                      ३५०

93                  मानस-पीयूष (उत्तरकाण्ड-खण्ड-७) सम्पूर्ण उत्तरकाण्डका                                                                                                                                 विस्तृत विवेचन।                                                      ३५०

Share This

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.