Gita Press, Gorakhpur

300.00

 

Information
Book code0006
Pages
Author
LanguageHindi, हिन्दी

गीता-साधक-संजीवनी-ब्रह्मलीन श्रद्धेय स्वामी श्रीरामसुखदासजी महाराजने गीतोक्त जीवनकी प्रयोगशालासे दीर्घकालीन अनुसन्धानद्वारा अनन्त रत्नोंका प्रकाश इस टीकामें उतार कर लोककल्याणार्थ प्रस्तुत किया है, जिससे आत्मकल्याणकामी साधक साधनाके चरमोत्कर्षको आसानीसे प्राप्त कर आत्मलाभ कर सकें। इस टीकामें स्वामीजीकी व्याख्या विद्वत्ता-प्रदर्शनकी न होकर सहज करुणासे साधकोंके लिये कल्याणकारी है। विविध आकार-प्रकार, भाषा, आकर्षक साज-सज्जामें उपलब्ध यह टीका सद्गुरुकी तरह सच्ची मार्गदर्शिका है।

                 गीता-साधक-संजीवनीके विभिन्न संस्करण

       कोड                                   पुस्तक नाम                                                                             मूल्य
                                                                                                                                                     
          5                  गीता-साधक-संजीवनी (परिशिष्टसहित)-हिन्दी-टीका,
                                      सजिल्द, सचित्र, बृहदाकार।                                          ४५०
          7                  गीता-साधक-संजीवनी मराठी-अनुवाद, मजबूत जिल्द,
                                      सचित्र, ग्रन्थाकार।                                                     २२०
        467                गीता-साधक-संजीवनी गुजराती-अनुवाद, सजिल्द,
                                      सचित्र, ग्रन्थाकार।                                                      २४०
       1080                गीता-साधक-संजीवनी(परिशिष्टसहित)-अंग्रेजी-अनुवाद              २४०
       1081                गीता-साधक-संजीवनी(दो खण्डोंमें), पुस्तकाकार,
                                      सजिल्द, सचित्र।                                                         २४०
        763                गीता-साधक-संजीवनी, बँगला-अनुवाद, सजिल्द,
                                      सचित्र, ग्रन्थाकार।                                                       २५०
        1121               गीता-साधक-संजीवनी, ओड़िआ-अनुवाद,
                                     सजिल्द, सचित्र, ग्रन्थाकार |                                           २५०
        1369               गीता-साधक-संजीवनी , कन्नड़-अनुवाद
        1370               गीता-साधक-संजीवनी , (दो खण्डोंमें),
                                    ग्रंथाकार, सजिल्द, सचित्र।                                               ३००
         1426               गीता-साधक-संजीवनी , तमिल-अनुवाद, सजिल्द,                      ३६०
         1427              गीता-साधक-संजीवनी , सचित्र, ग्रन्थाकार(दो खण्डोंमें)।                ३६०

Share This

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.