Gita Press, Gorakhpur

1

30.00

 

Information
Book code0260
Pages224
Authorजयदयाल गोयन्दका
Languageहिन्दी, Hindi

अलग-अलग सात भागों तथा विभिन्न शीर्षकों की तेरह पुस्तकों में पूर्व प्रकाशित सरल एवं व्यावहारिक शिक्षाप्रद लेखों के इस ग्रन्थाकार संकलन में गीता-रामायण आदि ग्रन्थों के सार तत्त्वों का संग्रह है। इसके अध्ययन से साधन-सम्बन्धी सभी जिज्ञासाओं का सहज ही समाधान हो जाता है। यह प्रत्येक घर में अवश्य रखने एवं उपहार में देने योग्य एक कल्याणकारी ग्रन्थ है।

Share This

Additional information

Dimensions13.3 × 20.3 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

Translate »